टायफाइड के लक्षण : Symptoms of Typhoid in Hindi

टायफाइड के लक्षण इन हिंदी : टायफाइड एक गंभीर बिमारी है इस बिमारी से लगभग सभी लोग वाकीफ हैं | यह बिमारी साल्मोनेला एन्टेरिका सेरोटाइप टाइफी नामक बैक्टीरिया से फैलती है और यह बैक्टीरिया पानी और खाने के ज़रिये अन्दर जाता है और इसके द्वारा ही लोगो में यह फैलता है | यह टायफाइड की बिमारी पाचन तंत्र और ब्लडस्ट्रीम में बैक्टीरिया के इन्फेक्शन की वजह से होती है | बैक्टीरिया के शरीर में घुसते ही टायफाइड के लक्षण दिखना महसूस होने लगते हैं टायफाइड की बिमारी में रोगी को कमजोरी महसूस होने लगती है |

टायफाइड के बैक्टीरिया पानी या सूखे मल में हफ्तों तक जिंदा रहते हैं जब भी कोई व्यक्ति किसी टायफाइड से संक्रमित इन्सान का झूठा खता पीता है तो इससे दुसरे व्यक्ति को भी टायफाइड होने की संभावना हो जाती है | क्या आप इस बात को जानते हैं के टायफाइड किन कारणों की वजह से होता है और टायफाइड के  क्या लक्षण होते टायफाइड में किस चीज़ से परहेज़ करना चाहिए और टायफाइड के उपचार के लिए क्या करना चाहिए | आइये जानते हैं टायफाइड  के लक्षण इन हिंदी

टायफाइड के लक्षण इन हिंदी – Symptoms of Typhoid in Hindi

1. टायफाइड के लक्षणों में से सबसे एहम और मुख्य लक्षण होता है बुखार आना अगर किसी व्यक्ति को 104 डिग्री बुखार तक बुखार हो रहा है तो हो ऐसी सम्भावना है के उस व्यक्ति को टायफाइड हो सकता है | काफी बार ऐसा भी देखा गया है के टायफाइड से संक्रमित व्यक्ति की त्वचा पर रेशेज़ हो जाते हैं | अगर किसी भी व्यक्ति को ऐसे लक्षण दिखाई दें (Typhoid Symptoms in Hindi) तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें |

2. टायफाइड से संक्रमित व्यक्ति को भूख का एहसास कम होता है | टायफाइड से ग्रसित व्यक्ति के शरीर में जब संक्रमण बढ़ने लगता है तब उस व्यक्ति को भूख कम लगने लगती है | अगर आपको या आपके परिवार में किसी व्यक्ति के साथ भूख कम लगने की समस्या है तो उसका कारण पता करना ज़रूरी है क्यूंकि ऐसा कई बार होता है के लोग इसमें लापरवाही कर देते हैं जिसकी वजह से टायफाइड हलके-हलके बढ़ जाता है | इसलिए अगर आपको या आपके परिवार के किसी व्यक्ति को भूख कम लगती हो तो इसमें लापरवाही न करें तुरंत किसी डॉक्टर की सलाह लें |

3. टायफाइड का संक्रमण बच्चो को ज्यादा जल्दी हो जाता है इसलिए बच्चो का ख़ास ख्याल रखना बहुत ज़रूरी है | अगर बच्चा छोटा है तो उसे दस्त लग सकते हैं और थोड़े बड़े बच्चे को कब्ज़ की समस्या हो सकती है छोटे बच्चे को अगर दस्त की समस्या लगी रहती है तो कभी भी लापरवाही न करें क्यूंकि बच्चे आपको सही से समझाने में असमर्थ रहते हैं | ऐसा भी होता है के माँ बाप ऐसे में ध्यान नहीं देते और यह आगे चलके टायफाइड  जैसी बड़ी समस्या होबन जाती है |

4. टायफाइड के लक्षण में से एक लक्षण में व्यक्ति के सिर और शरीर में दर्द रहता है और हलके हलके जैसे टायफाइड का संक्रमण बढ़ता है वैसे वैसे दर्द भी बढ़ने लगता है | अगर आपके या आपके परिवार में किसी के दर्द है और आप उसको दर्द निवारक दवाई लेकर ठीक कर लेते हैं और कुछ दिन बाद दर्द की समस्या फिर से होने लगती है तो आप्य्ह टायफाइड  कि समस्या हो सकती है |

5. अगर आपको यह आपके परिवार में किसी को दिन में बिना किसी कारण ठण्ड लग रही है या किसी काम में उसका मन नहीं लग रहा और जिस्म में सुस्ती महसूस हो रही है तो यह टायफाइड का लक्षण हो सकता है | खासकर के अगर किसी बच्चे का मन पड़ी में नहीं लग रहा या बच्चा दिन भर सुस्त-सुस्त सा महसूस कर रहा है और खाना भी ठीक से नहीं खा रहा है तो आप तुरंत डॉक्टर की सलाह लें |

आशा करता हूँ आपको यह पोस्ट टायफाइड के लक्षण अच्छी लगी हो अगर आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद आई तो इसे शेयर करें और हमें कमेंट में ज़रूर बताएं |

Leave a Comment